Friday, July 27, 2012

समरथ को नहीं दोष गुसाईं.....

उमड़ना, घुमड़ना हो आसमां का या हो तेज हवाएं,
विनाशकारी आंधियां हो, या हो प्रलयकारी बाढ़
कर जाती है ये तांडव कभी मौत का अचानक.

उमड़ती-घुमड़ती नहीं धरती, रहती है शान्त, नीरव
पर कभी, फूट पड़ता है लावा अचानक,
एकाएक आ जाता है भूकंप-
कांपती तब धरती, पहाड़, दरिया, समंदर सभी
उजड़ते हैं बसेरे और क्षण भर में खाक होती जिंदगियां.

परन्तु,  इस सबके बावजूद भी-
धरती माँ है और पिता आसमां, कायम है यह दर्जा
कई-कई सदियों से, कई-कई पीढ़ियों से. लेकिन
रिश्तों की इन बारीकियों को नहीं समझ पाया कभी मै.

मैंने तो अपने बच्चे को छोटी सजा देने के भाव से,
मारा था उसकी पीठ पर एक हल्का सा हाथ
और दोस्तों की बदौलत- दर्ज हो गया मुझ पर
घरेलू हिंसा का केस, क्रूर पिता की संज्ञा मिली अलग,
पहले जमानत, फिर कोर्ट, कचहरी, तारीख और वकील
 झेल रहा हूँ मै आज तक पिछले आठ माह से.
सोचता हूँ बैठकर कभी, मैं तो निर्दोष हूँ फिर भी ये सजा...
धरती व आसमां के खिलाफ क्यों नहीं उठती आवाजें कभी.
या फिर यही सच है ? 'समरथ को नहीं दोष गुसाईं '        

10 comments:

  1. ’समरथ को नहीं दोष गुसाईं' ध्रूव सत्य तो यही है भतीजे.

    रामराम

    ReplyDelete
  2. बहुत उत्तम!!

    अब हमें आपका पता मालूम हो गया...ताऊ महाराज की कृपा चल निकली.. :)

    ReplyDelete
  3. "'समरथ को नहीं दोष गुसाईं '"        
    यही सच है ...........

    ReplyDelete
  4. आपकी कविता में शब्दों का समावेश अच्छा लगा । मेरे पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रिया भी अच्छी लगी । धन्यवाद।

    ReplyDelete
  5. हम आह भी भरते हैं तो हो जाते हैं बदनाम
    वोह क़त्ल भी करते हैं तो चर्चा नहीं होता ..............अर्थात ! समरथ को नहीं दोष गुसाईं.....

    उपरोक्त अभिव्यक्ति हेतु. आभार !

    ReplyDelete
  6. वाह: बहुत रचना..समरथ को नहीं दोष गुसाईं.....

    ReplyDelete
  7. 'समरथ को नहीं दोष गुसाईं ' यही सत्या है ... सत्या कभी झूटा नहीं होता ....लाजबाब रावत जी

    ReplyDelete
  8. शब्दों की जीवंत भावनाएं... सुन्दर चित्रांकन,पोस्ट दिल को छू गयी.......कितने खुबसूरत जज्बात डाल दिए हैं आपने.बहुत खूब.
    बहुत सुंदर भावनायें और शब्द भी ...बेह्तरीन अभिव्यक्ति ...!!शुभकामनायें.
    आपका ब्लॉग देखा मैने और नमन है आपको और बहुत ही सुन्दर शब्दों से सजाया गया है लिखते रहिये और कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये.

    ReplyDelete
  9. Awesome! Its really awesome paragraph, I have got much clear idea
    regarding from this paragraph.

    Also visit my weblog - free music downloads (twitter.com)

    ReplyDelete
  10. Awesome blog! Is your theme custom made or did you download it from somewhere?
    A theme like yours with a few simple tweeks would really make my blog shine.
    Please let me know where you got your design. Bless you

    Here is my web page CandanceMArtzer

    ReplyDelete