Tuesday, March 29, 2011

बहुआयामी व्यक्तित्व के धनी है बी0 मोहन नेगी

नेगी जी का विस्तृत परिचय आपने पिछले अंक में पढ़ा;
प्रस्तुत है नेगी जी के शिल्प से परिचय  -
1-रेखाचित्र- इस विधा के माध्यम से उन्होंने हिमालयी सौन्दर्य, लोकजीवन, लोकपरम्परा व श्रृंगार के संयोग व वियोग पक्ष को अभिव्यक्त किया है.                                    




                                           जारी है अगले अंक में ......     

7 comments:

  1. कमाल के रेखाचित्र हैं...... कला के प्रति समर्पित ऐसे व्यक्तित्व को साधुवाद ....आभार आपका इस परिचय के लिए.....

    ReplyDelete
  2. कामल के रेखा चित्र| ये रेखा चित्र अपने आप में बहुत कुछ कह रही हैं| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  3. मेरी लड़ाई Corruption के खिलाफ है आपके साथ के बिना अधूरी है आप सभी मेरे ब्लॉग को follow करके और follow कराके मेरी मिम्मत बढ़ाये, और मेरा साथ दे ..

    ReplyDelete
  4. सुन्दर छाया चित्रांकन, घर खलियान वाले चित्र पर तो मन मुग्ध हो गया !

    ReplyDelete
  5. नेगी जी की यह श्रंखला कमाल की और विस्मय कारी है ! आभार आपका !

    ReplyDelete